यह मुख्यालय छवि है
यह मुख्यालय छवि है
यह क्षेत्रीय छवि है
india flag image भारत सरकार
cwc_logo

केंद्रीय जल आयोग

(1945 से राष्ट्र की सेवा में)

केंद्रीय जल अभियांत्रिकी सेवा (सीडब्ल्यूईएस)

अवलोकन-

औपचारिक रूप से वर्ष 1965 में गठित, केंद्रीय जल अभियांत्रिकी सेवा (सीडब्ल्यूईएस) केंद्र सरकार का एक प्रमुख समूह है, जो जल क्षेत्र के साथ काम करता है और यह जल संसाधन, नदी विकास और गंगा संरक्षण के तहत समूह "ए" सेवा है।

भर्ती-

सीडब्ल्यूईएस अधिकारी जो सिविल इंजीनियरिंग या मैकेनिकल इंजीनियरिंग स्ट्रीम से संबंधित हैं, यूपीएससी द्वारा इंजीनियरिंग सेवाओं की परीक्षा के आधार समूह "ए" के पदों के लिए भर्ती किये जाते हैं। या फिर फीडर ग्रेड में समूह -बी अधिकारियों के के पदोन्नति के माध्यम से।

प्रशिक्षण

राष्ट्रीय जल अकादमी, पुणे, केंद्रीय जल आयोग (के. ज. आ.) के गृह प्रशिक्षण संस्थान में सहायक निदेशक स्तर पर सीधे भर्ती होने वाले सी डब्ल्यू ई एस अधिकारियों के लिए 26 सप्ताह के प्रेरण प्रशिक्षण कार्यक्रम का आयोजन करता है। पदोन्नत हुए सी डब्ल्यू ई एस अधिकारियों के लिए भी राष्ट्रीय जल अकादमी, पुणे, में एक अनुस्थापन पाठ्‍यक्रम का आयोजन किया जाता है। यह प्रशिक्षण अधिकारियों को जल क्षेत्र के विभिन्न पहलुओं / मुद्दों से अवगत कराते हैं और उन्हें जल क्षेत्र में  विभिन्न तकनीकी-प्रबंधकीय उपकरणों के साथ विभिन्न चुनौतियों से निपटने के लिए सक्षम बनाते हैं।

इस के अतिरिक्त, राष्ट्रीय जल अकादमी, पुरे वर्ष विभिन्न प्रकार के प्रशिक्षण और क्षमता निर्माण कार्यक्रम सी डब्ल्यू ई एस अधिकारियों विभिन्न स्तरों पर आयोजित करता है। सी डब्ल्यू ई एस अधिकारीयों को नियमित रूप से अंतर्राष्ट्रीय प्रशिक्षण के लिए भी भेजा जाता है।

अधिकारियों को निदेशालय / सर्किलों / अन्य इकाइयों का आवंटन-

सी डब्ल्यू ई एस अधिकारियों की व्यवसाय प्रवाह में सच्ची दीक्षा और शोधन प्रक्रिया उनके किसी निदेशालय / सर्किल या विभिन्न इकाइयों में तैनात किए जाने के बाद ही होती है। सी डब्ल्यू ई एस के अधिकांश अधिकारी केंद्रीय जल आयोग (के. ज. आ.) में नियुक्त हैं। सी डब्ल्यू ई एस के पदों की एक बड़ी संख्या अन्य संगठनों में भी संलग्न है।  इसमें जल संसाधन मंत्रालय, नदी विकास व गंगा ससंरक्षण, केंद्रीय विद्युत प्राधिकरण (सीईए), सरदार सरोवर निर्माण सलाहकार समिति (एसएससीएसी), गंगा बाढ़ नियंत्रण आयोग (जीएफसीसी), फरक्का बैराज परियोजना (एफबीपी),कृष्णा नदी प्रबंधन बोर्ड (केआरएमबी ), गोदावरी नदी प्रबंधन बोर्ड (जीआरएमबी), आदि शामिल हैं।

सीडब्ल्यूईएस अधिकारी कैडर पोस्टिंग के तहत जल संसाधन मंत्रालय, नदी विकास व गंगा संरक्षण, के महत्वपूर्ण संगठनों अर्थात् केजआ, जीएफसीसी, केआरएमबी, जीआरएमबी आदि का नेतृत्व करते हैं।

सीडब्ल्यूईएस अधिकारियों को अन्य संगठनों के प्रमुख के लिए अवसर भी उपलब्ध हैं जैसे सी डब्ल्यू पी आर एस, सी एस एम आर एस, ऍन आई एच, यू वाई आर वी, आदि। सीडब्ल्यूईएस अधिकारियों को अंतर्राष्ट्रीय अभिहस्तांकन के जल संरक्षण परियोजनाओं के नियोजन और निष्पादन और अन्य दीर्घकालिक और अल्पकालिक प्रतिनियुक्तियों पर भी प्रतिनियुक्त किया जाता है। इसके अलावा, सीडब्ल्यूईएस समूह ए के अधिकारी केंद्रीय सरकार के विभिन्न विभागों में केंद्रीय कर्मचारी योजना के माध्यम से महत्वपूर्ण पदों पर सेवा देने के अवसरों का लाभ उठा सकते हैं।

सीडब्ल्यूईएस ​​अधिकारियों के कार्य

देश के जल संसाधनों के विकास और प्रबंधन के लिए बढ़ती चुनौतियों के बीच सीडब्ल्यूईएस अधिकारी बहुमुखी भूमिका निभाते हैं।

आम तौर पर, सीडब्ल्यूईएस अधिकारियों के कामकाज के लिए 12 प्रमुख कार्यात्मक डोमेन की पहचान की जा सकती है

क्रमांक

कार्यात्मक डोमेन

1.

बुनियादी योजना और प्रबंधन

2.

जल प्रबंधन

3.

नदी प्रबंधन

4.

पानी से संबंधित विवादों में अंतर-राज्य / अंतर्राष्ट्रीय संघर्ष समाधान

5.

बाढ़ का पूर्वानुमान / जल विज्ञान अवलोकन

6.

मानव संसाधन प्रबंधन और प्रशासन

7.

जल विज्ञान

8.

जल संसाधन परियोजनाओं के सिविल/ संरचनात्मक डिज़ाइन

9.

जल संसाधन परियोजनाओं का सर्वेक्षण/ जांच

10.

जल संसाधन परियोजनाओं का मूल्यांकन

11.

जल संसाधन परियोजनाओं की निगरानी

12.

जल संसाधन परियोजनाओं हाइड्रो-मैकेनिकल डिज़ाइन

इन कार्यात्मक डोमेन को अच्छी तरह से परिभाषित भूमिकाओं / उद्देश्यों और गतिविधियों / कार्यों के साथ सौंपा गया है। यह डोमेन सीडब्ल्यूईएस के अधिकारीयों को जल क्षेत्र में नीति निर्माण, विकास और जल संसाधनों के प्रबंधन, डिजाइन और अनुसंधान, नदी प्रबंधन आदि के लिए नीति निर्माण में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने के लिए तैयार करता है। इसके अलावा, सीडब्ल्यूईएस अधिकारी अन्य चुनौतीपूर्ण क्षेत्रों में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं, जैसे कि राष्ट्रीय जल मिशन, स्वच्छ गंगा के लिए राष्ट्रीय मिशन, जल संसाधन परियोजनाओं का निष्पादन, तटीय प्रबंधन, क्षमता निर्माण आदि।

व्यवसाय प्रगति तंत्र

सीडब्ल्यूईएस ​कैडर के लिए प्रचलित भर्ती नियमों के अनुसार, एक अधिकारी को JTS स्तर पर न्यूनतम 4 साल की सेवा, और JAG स्तर पर उसकी पदोन्नति से 9 साल पहले STS स्तरपर सेवा करनी होती है| जूनियर टाइम स्केल (JTS) और सीनियर टाइम स्केल (STS) स्तर परअपने कार्यकाल के दौरान, अधिकारी JAG स्तर पर बड़ी जिम्मेदारियों के लिए आवश्यक क्षमताविकसित करते हैं। जूनियर प्रशासनिक ग्रेड (JAG) और इसके बाद के संस्करण में, अधिकारियोंको अच्छी तरह से परिभाषित उत्पादन देने की आवश्यकता होती है। एक सीडब्ल्यूईएस अधिकारीको अन्य नियम और शर्तों के अनुसार क्रमशः 17 साल और 25 साल की ग्रुप ए सेवा में डालनेके बाद SAG स्तर और HAG स्तर तक पदोन्नत किया जा सकता है। सीडब्ल्यूईएस ​​कैडर मेंअधिकांश स्तरों पर व्यावहारिक रूप से कोई ठहराव नहीं है और पदोन्नति नियमित अंतरालपर होती है। दो साल के जूनियर बैच के IAS अधिकारियों के साथ आगे वेतन समता, जो केंद्रीयपद पर हैं, गैर-कार्यात्मक उन्नयन के साथ सीडब्ल्यूईएस अधिकारियों के लिए भी सुनिश्चितकिया जाता है। व्यवसाय प्रगति तंत्र नीचे दी गई तालिका में दिखाया गया है|

क्रमांक

स्तर

आरोही क्रम की वरीयता

1.

जूनियर टाइम स्केल पीबी -3 (15600-39100 रुपये), जीपी- रुपये 5400

सहायक निदेशक / सहायक कार्यकारी अभियंता (प्रवेश स्तर केपरिवीक्षाधीन)

2.

सीनियर टाइम स्केल पीबी -3 (15600-39100 रुपये), जीपी- रूपये 6600

उप निदेशक / कार्यकारी अभियंता / उपायुक्त (भारत सरकार के अवर सचिव के समतुल्य)

3.

गैर कार्यात्मक दूसरा ग्रेड पीबी -3 (15600-39100 रुपये), जीपी- रूपये 7600

उप निदेशक / कार्यकारी अभियंता / उपायुक्त (भारत सरकार के उप सचिव के समकक्ष)

4.

जूनियर प्रशासनिक ग्रेड पीबी -4 (37400-67000 रुपये), जीपी-रूपये  8700

निदेशक / अधीक्षण अभियंता / वरिष्ठ संयुक्त आयुक्त (भारत सरकार के निदेशक के समतुल्य)

5.

वरिष्ठ प्रशासनिक ग्रेड पीबी -4 (37400-67000 रुपये), जीपी- रूपये 10000

मुख्य अभियंता / आयुक्त (भारत सरकार के संयुक्त सचिव के समकक्ष)

6.

उच्च प्रशासनिक ग्रेड (रूपये 67000-79000) + 3% वेतन वृद्धि

सदस्य, के. ज. आ. / अध्यक्ष, जीएफसीसी/ केआरएमबी/ जीआरएमबी (भारत सरकार के अतिरिक्त सचिव के समकक्ष)

7.

सर्वोच्च स्तर (रूपये- 80,000 तय)

अध्यक्ष, के.ज.आ.(भारत सरकार के सचिव के समतुल्य)